राहत इंदौरी के कुछ कहे अनकहे अल्फाज़ जो जीत लेंगे आपका दिल

फीचर्ड साहित्य- कला

राहत इंदौरी इंदौर के जाने माने कवि हैं | वह भारतीय उर्दू शायर एवं हिंदी फिल्मों के गीतकार हैं। वे देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर में उर्दू साहित्य के प्राध्यापक भी रह चुके हैं। राहत इंदौरी ने बड़े ही शानो शौकत से अपने दिल की बात कुछ ऐसे जाहिर की |

via

राहत का जन्म इंदौर में 1 जनवरी 1950 में कपड़ा मिल के कर्मचारी रफ्तुल्लाह कुरैशी और मकबूल उन निशा बेगम के यहाँ हुआ। वे उन दोनों की चौथी संतान हैं। उनकी प्रारंभिक शिक्षा नूतन स्कूल इंदौर में हुई। उन्होंने इस्लामिया करीमिया कॉलेज इंदौर से 1973 में अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी की और 1975 में बरकतउल्लाह विश्वविद्यालय, भोपाल से उर्दू साहित्य में एमए किया। तत्पश्चात 1985 में मध्य प्रदेश के मध्य प्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय से उर्दू साहित्य में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की।

via

परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं थी और राहत जी को शुरुआती दिनों में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। उन्होंने अपने ही शहर में एक साइन-चित्रकार के रूप में 10 साल से भी कम उम्र में काम करना शुरू कर दिया था। चित्रकारी उनकी रुचि के क्षेत्रों में से एक थी और बहुत जल्द ही बहुत नाम अर्जित किया था। वह कुछ ही समय में इंदौर के व्यस्ततम साइनबोर्ड चित्रकार बन गए। क्योंकि उनकी प्रतिभा, असाधारण डिज़ाइन कौशल, शानदार रंग भावना और कल्पना की है कि और इसलिए वह प्रसिद्ध भी हैं।

यह भी एक दौर था कि ग्राहकों को राहत द्वारा चित्रित बोर्डों को पाने के लिए महीनों का इंतजार करना भी स्वीकार था। यहाँ की दुकानों के लिए किया गया पेंट कई साइनबोर्ड्स पर इंदौर में आज भी देखा जा सकता है।

via

आइये जाने राहत इंदौरी के कुछ दिल छुने वाली शायरी :

उम्मीद करते हैं आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो | अगर हाँ तो ज़रूर लाइक, शेयर और कमेंट ज़रूर करें |

यह भी ज़रूर पढ़े : 6 बाते जो आपने भारत के हर रिक्शा वाले से जरूर सुनी होंगी

 

Featured Image Courtesy

Tagged

Review Overview

Summary

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *