अफ्रीकी देशों ने ट्रंप से अभद्र टिप्पणी पर माफी मांगने को कहा

न्यूज़ फीचर्ड

वाशिंगटन, 13 जनवरी (आईएएनएस)| अफ्रीकी देशों के प्रतिनिधि संघ ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से अफ्रीकी देशों को लेकर की गई उनकी अभद्र टिप्पणी पर माफी की मांग की है। गौरतलब है कि ट्रंप ने आव्रजन नीति पर एक बैठक के दौरान अफ्रीकी देशों को ‘शिटहोल्स’ कहा था।

बीबीसी के मुताबिक, शुक्रवार को वाशिंगटन डीसी में प्रतिनिधि समूह ने ट्रंप के इस बयान को हैरतभरा, दुखद और भद्दा बताते हुए कहा कि ट्रंप प्रशासन ने अफ्रीकियों को गलत समझा है।

ट्रंप ने आव्रजन नीति को लेकर हुई बैठक में यह कथित टिप्पणी की।

अफ्रीकी संघ ने कहा कि इस टिप्पणी से अमेरिकी सिद्धांतों और साथ ही विविधता और मानव गरिमा के प्रति सम्मान की भावना का अपमान हुआ है।

उन्होंने कहा, “इस पर हैरत, दुख और गुस्से के साथ ही हमारा दृढ़ विश्वास है कि अमेरिका के मौजूदा प्रशासन ने अफ्रीकी महाद्वीप और इसके लोगों को गलत समझ लिया है। अमेरिकी प्रशासन और अफ्रीकी देशों के बीच वार्ता की आवश्यकता है।”

ट्रंप ने ओवल ऑफिस में हुई बैठक के दौरान अफ्रीकी आव्रजकों को लेकर भद्दी टिप्पणी की थी, जो शुक्रवार को मीडिया के जरिए पता चली।

ट्रंप ने गुरुवार को सांसदों से कहा, “हम इन शिटहोल देशों से आ रहे लोगों को पनाह क्यों दे रहे हैं?”

बीबीसी ने बताया कि ट्रंप की यह टिप्पणी हैती, अल सल्वाडोर और अफ्रीकी देशों के लोगों के संदर्भ में की गई थी।

ट्रंप ने कहा कि हमें इनके बजाए नॉर्वे जैसे देशों के आव्रजकों को पनाह देनी चाहिए।

व्हाइट हाउस ने गुरुवार को इस टिप्पणी से इनकार नहीं किया लेकिन ट्रंप ने शुक्रवार को इस तरह की भाषा के इस्तेमाल से इनकार किया। हालांकि, उनकी इस टिप्पणी को लेकर काफी आलोचना हो रही है।

व्हाइट हाउस में हुई इस बैठक में दो रिपबल्किन सीनेटर भी मौजूद थे, जिन्होंने ट्रंप के दावे का समर्थन किया लेकिन डेमोक्रेटिक सीनेटर डिक डर्बिन ने कहा कि ट्रंप ने अफ्रीकी देशों को कई बार ‘शिटहोल्स’ कहा और उनके खिलाफ नस्लभेदी भाषा का इस्तेमाल किया।

बीबीसी के मुताबिक, ट्रंप ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा कि उन्होंने इस निजी बैठक में जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया, वह सख्त थी लेकिन उन्होंने उन शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया।

–आईएएनएस

Thumbnail

Review Overview

Summary

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *