भारत के 7 मंदिर व तीर्थस्थान जो अजीब-असाधारण गतिविधियों के लिए जाने जाते है

फीचर्ड हॉरर

हम ईश्वर की प्रार्थना करने के लिए मंदिरों में जाते हैं, लेकिन क्या अगर मंदिर खुद अलौकिक गतिविधियों का हिस्सा बन जाता है? हां, कुछ रिपोर्टों के मुताबिक भारत में कुछ मंदिर ऐसे भी है जो की अलौकिक गतिविधियों का आयोजन करते हैं और उनमें से बहुत से भूत-प्रेत अभ्यास करते हैं। यदि आप इन देवीय जगहों से अनभिज्ञ है तो चलिए आपको बताते है भारत के 7 मंदिर व तीर्थस्थान के बारे में जो अजीब-असाधारण गतिविधियों के लिए जाने जाते है।

भारत के 7 तीर्थस्थान जो अजीब-असाधारण गतिविधियों के लिए जाने जाते है:

1) हजरत सैयद अली मीरा दरार दरगाह, गुजरात

via

उनिवा गांव में एक किले की तरह इसकी संरचना है। इस दरगाह में उन लोगों को लाया जाता है, जो मानसिक रूप से प्रभावित होते हैं। लोग यहाँ आते हैं क्योंकि वे बुरे आत्माओं को दूर करना चाहिए। सभी धर्मों के लोग यहाँ आते हैं अपनी भूत बाधाओं को दूर करने।

2) मेहँदीपूर बालाजी मंदिर, राजस्थान

via

यह मंदिर कई सालों से बुरे आत्माओं से जुड़ाव और काला जादू या मंत्र के लिए जाना जाता है। क्या यह जानना ही इतना भयावह नहीं है? यह माना जाता है कि भारत में एकमात्र जगहों में से एक है जहां अभी भी जीवित भूत भगाने का अभ्यास किया जाता है।

3) श्री कष्टभंजन देव हनुमाजी मंदीर, गुजरात

via

इस मंदिर में लोग भगवान हनुमान को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं, और बुरी आत्माओं को दूर करने के लिए भी जाते हैं। कहा जाता है कि जगह भूत और बुरे सपने से छुटकारा दिलाती है।

4) दत्तात्रेय मन्दिर, गंगापुर

via

यह मंदिर मध्य प्रदेश के बेतुल जिले में स्थित है और हर साल नए चाँद पर लोग यहां आते हैं। इस जगह आने से भूत बाधाओं से छुटकारा मिलता है।

5) निजामुद्दीन दर्गाह, दिल्ली

via

एक्सोरसिस्म (भूत भागने की प्रक्रिया) को यहां एक कमरे में किया जाता है। कहा जाता है कि यहाँ एक कमरा बुरी आत्माओं के लिए समर्पित है। उस कमरे से आती हुई चीखें सुनी जा सकती हैं

6) चंडी देवी मंदिर, हरिद्वार

via

चंडी देवी मंदिर, सिध्द पीठ के रूप में भक्तों से अत्यधिक सम्मानित होता है, जो पूजा की जगह होती है जहां इच्छाओं को पूरा किया जाता है। चंडी देवी को देवी के हिंसक रूपों में से एक माना जाता है, और यह मंदिर भूत भगाने के लिए एक आम जगह है।

7) डेरा बाबा सिंह, हिमाचल प्रदेश

via

बाबा ने एक पहाड़ी पर एक गुरुद्वारा का निर्माण किया देहरा साहिब के पास। मंजी साहिब, जहां बाबा ध्यान और आराम करते थे। यहां, आप देखेंगे कि महिलाएं बिलकुल ही अलग तरह से समाधी के रूप में प्रार्थना करती है। जबकि दीवार से जुड़ी जंजीरों में जवान अपने स्वयं के इलाज की प्रतीक्षा करते हैं।

इन मंदिरो में जाकर आपको कुछ अलग ही नज़ारे जो की आपको डरा भी सकते है दिखाई देंगे। परन्तु आज भी लोगो की मान्यताएं इनसे जुडी हुई है और बहुत दूर-दूर से लोग यहाँ आते है।

Featured image courtesy:

Tagged

Review Overview

Summary

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *