जाने एक ऐसे मंदिर के बारे में जहाँ पंडित नहीं साँप करते हैं पूजा

फीचर्ड विचित्र

भारत बहुत से रीती-रिवाज़ों का देश हैं यहाँ के मंदिर-मस्जिदों से कई कहानियां जुड़ी हैं। यहाँ के अनोखे मंदिर और परम्पराएं दुनियाभर में मशहूर हैं, भारत में हर कुछ दिनों में कुछ ना कुछ अजीबो-गरीब चमत्कार सुनने को मिल जाते हैं।

via

कुछ मंदिरों में तो भगवान् की पूजा के भी अलग-अलग तरीके अपनाते हैं लेकिन क्या हो अगर किसी मंदिर में पुजारी या पंडित नहीं बल्कि कोई और पूजा करे। हाँ, आज हम इस ब्लॉग के ज़रिये ऐसे ही एक मंदिर के बारे में बता रहे हैं जहाँ पंडित नहीं करते पूजा। अब आप सोचेंगे की पंडित नहीं तो कौन करता है पूजा ?

via

आपके सवाल का जवाब है – साँप। चौंक गए ना आप, यह सच है उत्तरप्रदेश के आगरा के पास स्थित एक गांव के एक प्राचीन मंदिर में 15 वर्षों से शिव की पूजा करने के लिए एक नाग हर रोज आता है। ऐसा कहा जाता है की यह नाग रोज मंदिर में करीब 4 से 5 घंटे तक रुकता है और भगवान की पूजा करता है।

via

यह नाग इस मंदिर में करीब 10 बजे आता है और दोपहर 3 बजे तक लौट जाता है और आश्चर्य की बात यह है की यहां आने वाले श्रद्धालुओं को इस साँप से कोई डर नहीं है और ना ही इसने किसी को नुकसान पहुंचाया है। इसके अलावा यह भी कहा जाता है की इस मंदिर में पूजा करने से हर मनोकामना पूरी हो जाती है ।

via

इसी कुछ दिलचप्स बातों के वजह से यह जगह श्रद्धालु एवं टूरिस्ट को अपनी और आकर्षित करती है | यहां शिवरात्री के वक़्त टूरिस्ट और श्रद्धालुओं की भीड़ जमा रहती है, ऐसे तो नाग के प्रवेश के बाद इस मंदिर के द्वार बंद कर दिए जाते हैं और नाग के जाने के बाद ही लोगों को दर्शन करने को दिया जाता है लेकिन फिर भी लोग घंटो इस नाग के दर्शन के लिए मंदिर के बाहर खड़े रहते हैं ।

via

किसी मनुष्य द्वारा पूजा पाठ करना आम बात है लेकिन यह जान कर बहुत ही अजीब लगता है जब पता चलता है की शिव जी के मंदिर में साप करता है पूजा | यही गुण किसी जीव-जंतु में आ जाए तो इसे एक चमत्कार ही कहा जा सकता है।आप भी एक बार ज़रूर जाए यहाँ और साक्षात् दर्शन कर के आये | और अगर आप घूम चुके हैं तो हमे ज़रूर बताये की कैसा था वहाँ का माहौल |

Featured Image Courtesy 

यह भी ज़रूर पढ़े :

विश्वाश करें इन 3डी टैटूज़ को देख चकरा जायेगा आपका भी दिमाग

Tagged

Review Overview

Summary

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *