जाने ऐसा क्या मजाक किया हर्षल गिब्स ने जो बदतमीजी पे उतर गए आर. आश्विन

फीचर्ड स्पोर्ट्स

जब आप आर. आश्विन के ट्विटर अकाउंट पे जा कर देखेंगे आपको ठीक उनके नाम बाद उन्होंने अपने बारे में बताया है | अपने बारे में लिखते हैं- इंडियन क्रिकेट टीम और तमिलनाडु की नुमांइदगी करता हूं | व्यंग्य करना और आशावान रहना मेरी मजबूती है | सोमवार को अश्विन ने एक ट्वीट किया | नाइकी के जूते का एड था जिसमें हमारे इस स्पिनर ने इसे आरामदायक बताया और कहा कि मैं इसे जल्द पहनकर दिखाना चाहता हूं | असल में ये एक ब्रैंड है जिसे अश्विन प्रमोट करते हैं |

इस पर साउथ अफ्रीका के एकतरफा ओपनर रहे हर्शल गिब्स ने मजाकिया कमेंट किया | कहा- उम्मीद है इसे पहन कर तुम थोड़ा तेज दौड़ोगे अश्विन | अब इस कमेंट पर कोई कितना बुरा मान सकता है इस बात का अंदाजा अश्विन के अलावा कोई नहीं लगा सकता है | अश्विन ने तुरंत जवाब देते हुए कहा- नहीं उतना तेज नहीं दौड़ पाउंगा जितना तेज तुम दौड़े | दुर्भाग्यवश मैं उतना लकी नहीं जितने तुम रहे | शुक्र है मेरे पास नैतिक रूप से बेहद मजबूत दिमाग है जो मुझे मैच फिक्सिंग करने से रोकता है क्योंकि उसी की वजह से मेरी थाली में भोजन आता है” |

 

इसी बात पे कुछ इस तरह से गिब्स ने रिप्लाई किया की  :

अब अश्विन और गिब्स की इस बातचीत पर खुद इंडियन क्रिकेट समर्थक भी कूद पड़े | लगभग हर किसी ने अश्विन के इस तरीके को बचकाना और गैर जरूरी बताया | शायद ये बात खुद अश्विन तक पहुंच गई और फिर मामले को ठंडा करने की कोशिश की | इस पर अश्विन ने कहा- मेरा जवाब भी मजाक ही था दोस्त | मगर देखो लोगों ने और आपने इसको कैसे लिया | मैं हमेशा हंसी-मजाक के लिए तैयार रहता हूं, इस पर कभी डाइनिंग टेबल पर बात करेंगे” | इसके साथ ही अश्विन ने अपने हैंडल से वो मैच-फिक्सिंग वाली ट्वीट भी हटा दी |

अब यहां अश्विन जो खुद को मजाकिया करार देते हैं और जो तंज कसने में माहिर हैं, उन्हें अपनी टाइमिंग और संदर्भों का भी ध्यान रखना चाहिए | अगर अश्विन ने मजाक से भी कहा था तो ये बेहद खराब मजाक है | दूसरा अगर मजाक ही किया तो फिर ट्वीट डिलीट क्यों कर दी | जो भी हो, उन लोगों को अपने लिखे और कहे पर खास ध्यान देने की जरूरत होती है जिन्हें लाखों लोग फॉलो करते हैं | अश्विन को भी इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए |

यह भी ज़रूर पढ़े : 

तो यह है विराट कोहली के फिटनेस का राज, आइये जाने

Featured Image Courtesy

Tagged

Review Overview

Summary

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *