पुरुष क्रिकेटरों को 7 करोड़ जबकि महिला क्रिकेटरों को सिर्फ़ 50 लाख़, ये कैसी बराबरी है?

फीचर्ड स्पोर्ट्स

बीसीसीआई दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड में से एक है। बावजूद इसके वो अपने खिलाड़ियों को अपनी कमाई का 8 से 10 फीसदी हिस्सा ही देता है। इसी बात को अभी हाल ही के दिनों में कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री ने उठाया था और खिलाडियों के पैसे बढ़ाए जाने की बात रखी थी। साल 2017-2018 में बीसीसीआई ने नए कॉन्ट्रैक्ट सिस्टम की घोषणा की है। जो विवादों की वजह बन चुकी है, दरअसल इस बार भी खिलाड़ियों को चार ग्रेड A+, A, B और C में बांटा गया है। मगर कमाल की बात तो यह है कि पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की टॉप ग्रेट में जगह नहीं मिल पाई है। वहीं विवादों में घिरे महोम्मद शमी को झटका देते हुए बीसीसीआई ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है। आई जानते हैं इस पूरे ग्रेट सिस्टम को।

किस ग्रेड वाले पुरुष खिलाड़ी को कितना पैसा मिलेगा?

via

जो भी खिलाड़ी A+ कैटेगरी में हैं उन सभी को सालाना 7 करोड़ रुपये तक मिलेगा, वहीं A कैटेगरी वाले प्लेयर को 5 करोड़, B कैटेगरी वाले प्लेयर को 3 करोड़ सालाना जबकि C कैटेगरी वाले प्लेयर को 1 करोड़ रुपये सालाना फीस दी जाएगी।

किस ग्रेड वाली महिला खिलाड़ी को कितना पैसा मिलेगा?

via

वहीं पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं की रकम काफी कम है, A कैटेगरी वाले प्लेयर को सालाना 50 लाख़, B कैटेगरी वाले प्लेयर को 30 लाख़ जबकि C कैटेगरी वाले प्लेयर को 10 लाख़ रुपये सालाना फीस देने का निर्णय लिया गया है।

बहस शुरू कहाँ से हुई

यह सारा मसला सामने आया ट्वीट पर दरअसल एक व्यक्ति ने रिप्लाई करते हुए सवाल उठाया कि पुरुष टीम की तुलना में महिलाओं को इतना कम पैसा क्यों दिया जा रहा है। दोनों की सैलरी में इतना फर्क क्यों ? हमारी भारतीय महिला क्रिकेट टीम दुनिया की बेहतरीन टीम में से एक है। मगर उसके बाद इनके मैच टेलीकास्ट नहीं किये जाते।

क्यों नहीं किया जाता प्रसारण 

via

इस बात से यह तो साबित हो गया कि अब लोगों की सोच बदल रही है, अब लोग महिला क्रिकेट को भी देखना चाहते हैं। और यह सब ख्याति महिला क्रिकेट टीम को उनके खेल की बदौलत ही हासिल हुई है। इसलिए हर देश वासियों को यही लगता है कि महिला क्रिकेट मैचों को ज़्यादा से ज़्यादा टेलिकास्ट किया जाना चाहिए। इसके पीछे कारण यह है कि बीसीसीआई की सबसे ज़्यादा कमाई विज्ञापनों से होती है। ऐसे में बोर्ड को लगता है कि महिला क्रिकेट को उतने विज्ञापन नहीं मिलेंगे, जितने कि पुरुषों क्रिकेट को मिलते हैं। यही एक बड़ा कारण है जिसकी वजह से महिला क्रिकेट को कम प्रसारण मिलता है।

बसीसीआई की नयी कॉन्ट्रेक्ट लिस्ट के अनुसार इन खिलाड़ियों को इन श्रेणी में रखा गया है

via

A+ = विराट कोहली, शिखर धवन, रोहित शर्मा, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह

A = एम.एस धोनी, रविचंद्र अश्विन, रविंद्र जडेजा, मुरली विजय, चेतेश्वर पुजारा, आजिंक्य रहाणे, और रिद्धिमान साह
B = के.एल राहुल, उमेश यादव, कुलदीप यादव, यजुवेंद्र चहल, हार्दिक पंड्या, इशांत शर्मा, दिनेश कार्तिक
C= केदार जाधव, मनीष पांडे अक्षर पटेल करुण नायर, सुरेश रैना, पार्थिव पटेल और जयंत यादव

thumbnail resource

Review Overview

Summary

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *