रिसर्च से साबित हुआ, पैंट की जेब में स्मार्ट फोन रखने से ख़त्म होती है सेक्स पॉवर

फीचर्ड हेल्थ

आज के दौर में ऐसा कौन व्यक्ति होगा जो स्मार्ट फोन का उपयोग नहीं करता होगा, अनुमन सब ही स्मार्ट फोन का इस्तेमाल करते हैं। मगर क्या आपको पता है, आप इसे पैंट की जेब में रखते हैं तो यह ख़तरनाक हो सकता है। यह बात हम नहीं कह रहे इसका खुलासा एक शोध में हुआ है, इस शोध में यह कहा गया है कि गैजेट्स का ज्यादा उपयोग करने से आपकी सेक्स लाइफ प्रभावित हो सकती है। यह सच मुच काफी ख़तरनाक बनता जा रहा है। आप जेब में फोन नहीं बल्कि भविष्य के लिए एक भयानक खतरे को न्यौता दे रहे हो। आज हम को बताने वाले हैं मोबाइल आपकी सेक्स जीवन को किस तरह प्रभावित कर सकता है।

इजराइल में हुआ शोध

via

इज़राइल में हुए एक नए शोध ने सब को हैरान कर दिया। यह शोध ख़ास इसलिए क्योंकि यह हम सब के दैनिक जीवन से जुड़ा हुआ है। दरअसल हम सब पैंट की जेब ख़ासकर फ्रंट पॉकेट में स्मार्टफोन रखते हैं, मगर इस शोध में सामने आया है कि पुरुषों का स्पर्म काउंट कम हो जाता है। इसका असर फर्टिलिटी और सेक्स के दौरान फोरप्ले पर बहुत असर पड़ता है।

600 व्यक्तियों पर किया गया शोध

via

इजराइल के जुवेन में हुए इस शोध में उन 600 व्यक्तियों को आमंत्रित किया गया था जिन्हें स्मार्टफोन की लत थी या यह कहे की जो हमेशा स्मार्ट फोन अपने साथ रखते थे। इन 600 व्यतियों में 425 ऐसे व्यक्ति निकले जो सेक्स के दौरान बहुत जल्दी स्व्खालित हो जाते है। वहीं यह भी पाया गया कि ऐसे व्यक्तियों में सेक्स के प्रति रूचि नहीं बचती।

उपाय

via

तो इसके लिए आप अपने स्मार्टफोन को किसी बटुए में या किसी पाउच में रखकर हाथ में पकड लें यही सबसे बेहतर उपाय है।

शर्ट की जेब में भी न रखें

via

शर्ट की जेब में भी मोबाईल रखना स्वस्थ के लिए ठीक नहीं है। जानकारों के अनुसार स्मार्टफोन को जब आप शर्ट की जेब में रखते हैं तो उससे ह्रदय पर काफी बुरा प्रभाव पड़ता है। वहीं इसमें से निकलने वाली तरंगों की वजह से दिल का दौरा भी पड़ सकता है।अगर आप दिल के मरीज हैं तो इसे शर्ट की जेब में बिलकुल भी न रखें।

इसके अलावा यह भी है नुकसान –
नींद को प्रभावित करता है

via

स्मार्टफोन सबसे ज़्यादा खलल नींद में डालता है।सोने के समय में भी कई लोग फोन पर लगे होते हैं और उनका ध्यान पूरा फोन पर होता है। ऐसा करने से न सिर्फ नींद प्रभावित होती है बल्कि इसका असर दिमाग पर भी होता है।

किसी भी चीज़ पर ध्यान नहीं दे पाना

via

स्मार्ट फोन किसी को भी अपने काम में ध्यान नहीं लगाने देता है। इसकी वजह से उनका काम बढ़ता जाता है, बढ़ता हुआ काम धीरे-धीरे तनाव में बदल जाता है जिससे दिमाग पर काफी गहरा असर पड़ता है।

दुर्घटना होने की संभावना

via

स्मार्ट फोन की लोगों को इस तरह की लत पड़ चुकी है कि रोड पर चलते हुए या ड्राइव करते समय भी लोग स्मार्ट फोन को खुद से दूर नहीं कर पाते। यही कारण है कि लोगो की सोचने की क्षमता ख़त्म हो जाती है और दुर्घटना होने की संभावना बढ़ जाती है।

thumbnail resource 

Review Overview

Summary

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *