आप यह नहीं जानते होंगे की दिल्ली कितने शहरों से मिल कर तैयार हुआ है

ट्रैवेल फीचर्ड

दिल्ली भारत की राजधानी है या कहे सबसे खूबसूरत भी है | दिल्ली नाम सुनते ही दिल्ली की भीड़ भाड़, मेट्रो, खाना जैसी चीज़े हमारे आँखों के सामने मंडराने लग जाती हैं | देश की राजनीतिक गतिविधियों के साथ ही दिल्‍ली ट्रवल लवर्स की भी फेवरेट है। यहां घूमने का क्रेज न केवल देशी बल्कि विदेशियों में भी खूब है |

via

इस क्रेज की वजह केवल दिल्‍ली का कैपिटल होना नहीं है बल्कि एतिहासिक होना भी है। जी हां, दिल्‍ली एक ऐसा शहर है जो इतिहास की कई कहानियों को अपने दिल में समेटे है। भारत के इतिहास में दिल्‍ली एक ऐसी महत्‍वपूर्ण जगह है, जिसने कई बार भारत को वर्ल्‍ड मैप पर बनते बिगड़ते देखा है।

via

दिल्‍ली ही वह शहर है जहां से भारत शुरू भी होता है और खत्‍म भी। यह एक ऐसा शहर है, जिसे जीतने के लिए सैकड़ों लड़ाइयां हुई हैं, लाखों लोग जान गवाई है और यहां के तख-तो-ताज पर कई राजाओं ने बैठ कर अपनी हुकूमत चलाई है। समय के साथ दिल्‍ली में कई बदलाव आए। आज दिल्‍ली को हर तौर पर एक विकसित शहरो की सुची में गिना जाता है। मगर इतिहास की कई निशानियां दिल्‍ली में आज भी मौजूद हैं, जो इस बात की गवाही देती हैं कि यह शहर कैसे बना।

via

दिल्ली सिर्फ जंगलो से घिरा था | पांडव राजकुमार युधिष्ठिर ने इन जंगलों को साफ कराया और यहां एक सुंदर नगर बसाया जिसका नाम इंद्रप्रस्‍थ रखा गया। तब से दिल्‍ली कई बार बसाई और उजाड़ी गई |

via

जिस दिल्‍ली को आज हम देखते हैं उसमें 7 शहर छुपे हुए हैं। आज हम उन्‍हीं सात शहरों के बारे में आपको बताएंगे :

सीरी फोर्ट :

via

इस जगह को अब हौज ख़ास के नाम से जाना है | इस जगह को अलाउद्दीन खिलजी ने अपनी राजधानी बनाया था | और अब इस जगह में खंडहर के अलावा कुछ भी नहीं बचा है |

तुग़लकाबाद :

via

वर्ष1320 में दिल्‍ली के राजसिंघासन पर जब ग्यासुद्दीन तुगलक बैठा तो उसने अपना एक खुद का नगर बसाया और उसका नाम तुगलकाबाद रखा | तुगलकाबाद के किले के मुख्य प्रवेश द्वार के पास ही गियासुद्दीन तुगलक का मकबरा भी स्थापित है, जो लाल बलुई पत्थर से बनाया गया था। इसके अलावा तुगलक काल की निशानी के तौर पर एक सड़क भी यहां मौजूद है। यह सड़क नई दिल्‍ली को को ग्रैंड ट्रंक रोड से जोडती है। इस रोड को आज मेहरुली-बदरपुर रोड के नाम से भी जाना जाता है।

फिरोज शाह कोटला किला :

via

1360 में दिल्‍ली के पांचवे शहर के रूप में फिरोजाबाद की स्‍थापना फिरोज शाह तुगलक ने की थी | दिल्ली के इंटरनेशनल क्रिकेट ग्राउंड का नाम भी फिरोज शाह कोटला ही है, जो की इसी किले के पास स्थापित है |

शाहजहांबाद :

via

इसे मुगल शासक शाहजहां ने बसाया था। आपको जानकर हैरानी होगी कि यही शहर मुगलों के पतन का कारण भी बना था।

मेहरौली :

via

कभी हिंदुओं राजों की जागीर रहे मेहरौली में कई मंदिर हुआ करते थे। मगर वर्ष 1192 में मोहम्‍मद गौरी के आक्रमण के बाद यह शहर तबहा हो गया |

किला राय पिथौरा :

via

यह किला तोमर राजा, अनंगपाल ने बनवाया था और इसका नाम लाल कोट रखा गया । बाद में पृथ्‍वीराज चौहान के पूर्वजों द्वारा तोमर वशं के राजा को एक लड़ाई में हरा देने के बाद इस किले पर चौहानों का कब्‍जा हो गया |

यह भी ज़रूर पढ़े :

अगर आप भी हैं घूमने के शौक़ीन तो ज़रूर इस्तेमाल करें यह क्रेडिट कार्ड्स

Featured Image Courtesy

Tagged

Review Overview

Summary

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *