क्या विमुद्रीकरण भारत में सफल हुआ और हो रहा है?

विमुद्रीकरण का सच्च! 8 नवंबर, 2016 ने एक प्रतीकात्मक रात देखी जब भारत सरकार ने अचानक महात्मा गांधी श्रृंखला के 500 और 1000 रुपए के नोटों को राजनैतिकरण की अवधारणा के तहत रद्द कर दिया। पूरे देश के लिए यह एक चौकाने वाली रात साबित हुई। लोगो को समय लगा विमुद्रीकरण को समझने में। इससे […]

Continue Reading

क्या आप जानते हैं भारत के छोटे और बड़े शहरों के बीच के 6 मतभेद?

एक भारत कई प्रान्तों से मिलकर बना है इसलिए यह अपनी विविधता के लिए जाना जाता है। यह विविधता हमारे विभिन्न प्रकार के धर्म और सांस्कृतिक मानदंडों की विशाल संख्या को दर्शाती है। जब आप भारत भर में यात्रा करते हैं, आपको स्थिति या जहां आप हैं या जिन लोगों के साथ आप इंटरैक्ट करते […]

Continue Reading

भारत में सीबीएसई और आईसीएसई में अध्ययन के बीच 6 अंतर

सीबीएसई (CBSE)या केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा और आईसीएसई(ICSE) या भारतीय प्रमाण पत्र माध्यमिक शिक्षा के भारत में दो सबसे प्रमुख शिक्षा बोर्ड है। अगर आपने भारत में किसी विद्यालय में पढ़ाई की है तो एक उच्च मौका है कि आप इन दोनों बोर्डों में अध्ययन किया होगा। लेकिन, जिस तरह से ये दो बोर्ड कार्य करते […]

Continue Reading

औरतों के लिए भारत में ये 6 चीजें करना अभी भी कठिन हैं

सम्मेलनों और सेमिनारों में हर समय लैंगिक समानता और महिलाओं के सशक्तिकरण के बारे में बात होती रहती है। नारीवादी प्रवचन नया नहीं है; यह दशकों से विकसित हो रहा है। हालांकि, विडंबना यह है कि इस समस्या को अति प्राचीन काल से संबोधित करते हुए भी पितृसत्ता द्वारा महिलाओं को चुनौती दी जाती रहती […]

Continue Reading

क्यों है गोवा हॉलिडे के लिए ओवर – रेटेड?

तो अब भी जायेंगे गोवा ? हालाँकि यह सुनकर आपको विरोधाभास हो सकता है, लेकिन कई कारण हैं जिसकी वजह से गोवा अब आपके अवकाश मानकों से मेल खाने में सक्षम नहीं है। कोई इनकार नहीं करता है कि गोवा सुंदर और कई विदेशी और घरेलू पर्यटकों द्वारा चुना जाता है। इसके अलावा, गोवा की […]

Continue Reading

विदेशों के 10 प्रगतिशील कानून जो भारत को आज ही अपनाने पर विचार करना चाहिए

हम सभी ने आदर्श भारत एक छवि अपने मन में बनायीं है कि ऐसा हमारा देश होना चाहिए। हमे यह आदर्श भारत एक छवि तब याद आती है जब हमे लगता है या जब हम महसूस करते है कि हमारा देश हमे आज़ादी देने में कहीं असमर्थ हो रहा है। और जब यह निर्विवाद रूप […]

Continue Reading

गणतंत्र दिवस : क्या आप जानते है यह अन्य देशों में कैसे व क्यों मनाया जाता हैं?

“The Resolution states that it is our firm and solemn resolve to have a sovereign Indian republic. You will well understand that a free India can be nothing but a republic,” यह शब्द पंडित जवाहर लाला नेहरू ने दिसंबर 13, 1946 को कहे थे जब वह भारत के संविधान का लक्ष्य और उद्देश्य की नींव […]

Continue Reading